Shayari

साइकिल शायरी | Cycle Shayari

Cycle Shayari Status in Hindi – साइकिल हर व्यक्ति के बचपन का बड़ा ही प्यार साथी होता हैं. साइकिल की सवारी सभी करते हैं. साइकिल की सवारी करने से जहाँ हम स्वस्थ होते हैं वहीं इसे चलाने से किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं फैलता हैं.

इस पोस्ट में बेहतरीन साइकिल शायरी, Cycle Shayari, साइकिल शायरी इन हिंदी, Cycle Shayari in Hindi, साइकिल पर शायरी, Shayari on Cycle in Hindi, Cycle Status in Hindi, Cycle Quotes in Hindi आदि दिए हुए हैं. इन्हें जरूर पढ़े.

साइकिल शायरी | Cycle Shayari

साइकिल की सवारी ने जिंदगी का मतलब समझाया,
कई बार गिर कर भी उठना सिखाया,
बिना डरे, कोशिशे करता रहा
उस ख़ुशी का अंदाजा मत लगाओ
जब मुझे साइकिल चलाने आया.


साइकिल का पहिया और नदी किनारा,
कितना भी चले वो कही नहीं पहुँचते हैं.


बचपन में जब मैं साइकिल चलाता था,
तो दिल ख़ुशियों से भर जाता था.


बचपन की वो साइकिल आज भी याद आती हैं,
ट्रिन ट्रिन की आवाज अब भी मुझे खूब भाती है.


साइकिल पर शायरी | Shayari on Cycle in Hindi

साइकिल की सवारी
लगती है बड़ी प्यारी,
स्वस्थ को बढायें
न फैले को प्रदूषण न कोई बीमारी.


बचपन में साइकिल चलाने के मजे
जवानी में ना जाने कहाँ खो जाते हैं,
क्या सच में हम इतने बड़े हो जाते हैं.


अपने बचपन के साइकिल को जब देखता हूँ,
तो मेरे अंदर मेरा बचपन जी उठता हैं.


जिंदगी कभी-कभी स्टैंड पर लगे साइकिल की तरह हो जाती है,
कितनी भी चला लो, मेहनत कर लो वो आगे नहीं बढ़ती हैं.


साइकिल को कैची चलाना,
गिरते हुए ख़ुद को सम्भालना,
साइकिल सीखने के लिए
दोस्तों की साइकिल उधार माँगना,
आज भी याद आता है वो जमाना.


तुम महंगी गाड़ियों में घूमों हम साइकिल पर ही सही है,
क्योंकि जो मजा साइकिल चलाने में वो महंगी गाड़ियों में नहीं हैं.


साइकिल शायरी इन हिंदी | Cycle Shayari in Hindi

जो खुशियाँ साइकिल चलाने से मिलती थी,
वो अब मोटर-कार चलाने से नहीं मिलती हैं,
पता भी नहीं चलता है जिन्दगी किस तरह बदलती हैं.


साइकिल के घंटी की आवाज जब कानों में पड़ती हैं,
मुड़कर देखता हूँ और बचपन की यादें दिल में सजती हैं.


आज के बच्चे उन खुशियों को
कैसे महसूस कर पायेंगे,
जो कार से स्कूल जाते है
और साइकिल को कभी हाथ नहीं लगाते हैं.


साइकिल के ऊपर शायरी | Cycle Ke Upar Shayari

आँखों में आंसू आ गए जब देखी यादों की घड़ी,
वो बचपन की साइकिल थी कोने में पड़ी


काश मेरी जिंदगी साइकिल का पहिया हो जाता,
तो पूरी उम्र तन्हा न गुजारनी पड़ती।


जब जिंदगी की साइकिल चलाओ,
तो सिर्फ़ खुशियाँ लुटाओ।


बचपन में जब साइकिल के ऊपर जब बैठते थे,
तो हम बड़ी Attitude में चलते थे.


इसे भी पढ़े –

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close