Uncategorized

घर की यादें शायरी हिंदी | Ghar Ki Yaadein Shayari Hindi

Ghar Ki Yaadein Shayari Hindi – घर की यादों पर बेहतरीन शायरी इस पोस्ट में दिए हुए हैं. जरूर पढ़े.

Ghar Ki Yaadein Shayari Hindi

परिवार की अहमियत तब समझ में आती है,
जब दूर शहर में घर की यादें सताती है.


ऐ दोस्तों, तुमसे हर दिन मिलते जरूर,
जिम्मेदारियाँ खींच लाई है हमें घर से दूर.


सुना है उसने खरीद लिया है करोड़ो का घर शहर में,
मगर आंगन दिखाने आज भी वो बच्चों को गाँव लाता है.


घर जाकर जब बच्चों को खाना खिलाया होगा,
बच्चों को क्या मालूम बाप ने किस हाल में कमाया होगा.


मेहमान की तरह घर से आते-जाते,
बेघर हो गये है हम कमाते-कमाते.


Ghar Par Shayari Hindi

चंद रूपयों के खातिर घर को छोड़ देना पड़ता है,
दिल नहीं लगता शहर में मगर दिल को तोड़ देना पड़ता है.


घर याद आता है, माँ याद आती है
जब यह शहर भूखे पेट सुलाती है.


कब आओगे ये घर ने मुझ से चलते वक्त पूछा था,
यहीं आवाज अब तक गूंजती है मेरे कानों में.

1 2 3 4Next page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close