QuotesShayariStatus

पहलवान शायरी स्टेटस | Pahalwan Shayari Status Quotes in Hindi

Wrestler Pahalwan Shayari Status Quotes in Hindi – इस आर्टिकल में पहलवान शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हे जरूर पढ़े.

पहले ग्रामीण क्षेत्रों में पहलवानी करना आम बात होती थी. हर घर के बच्चे खुद को ताकतवर बनाने के लिए कसरत करते और पहलवानी भी करते थे. कबड्डी खेला करते थे. लेकिन समय धीरे-धीर बदलता गया और कुछ ही दशकों में सब कुछ खत्म हो गया. अब सिर्फ प्रोफेशनल रेसलर ( Professional Wrestler ) ही बचे है. कुछ दशक पहले गाँव के प्राइमरी स्कूलों में ( कक्षा 1 से 8 तक ) बच्चों से कई प्रकार के खेल खिलवाते थे. जिसमें कबड्डी, दौड़, कुश्ती, पहलवानी, रस्सीकूद आदि होते थे. लेकिन आज कल इन स्कूलों में ढंग से पढ़ाई तक नहीं होती है.

Pahalwan Shayari in Hindi

Pahalwan Shayari in Hindi
Pahalwan Shayari in Hindi | Pahalwan Status in Hindi | Pahalwan Quotes in Hindi

जवाँ दिल है तो थोड़ी मनमानी करेगा,
इश्क़ करके रोयेगा फिर नादानी करेगा,
थोड़ा गुरूर हर कोई अपनी जवानी पर करेगा
गर जिगर होगा फौलादी तो पहलवानी करेगा।
वेद प्रकाश ‘वेदांत’


भरोसा उठ जाए अगर
रिश्ते उसी दिन मर जाते हैं,
पहलवान ना उनसे बनो तुम
जो तुम्हें खोने भर से डर जाते हैं.
वेद प्रकाश ‘वेदांत’


कमजोरों के सामने पहलवान बनते हो,
लखनऊ में बनारस का पान बनते हो,
दो चार चायनीज कुंग फू सीखकर
तुम दंगल का आमिर ख़ान बनते हो.
वेद प्रकाश ‘वेदांत’


Pahalwan Status in Hindi

Pahalwan Status in Hindi
Pahalwan Status in Hindi | Pahalwan Shayari in Hindi | Pahalwan Quotes in Hindi

सोचों समय कितना बलवान है,
जो कमजोर को भी बना देता पहलवान है.
वेद प्रकाश ‘वेदांत’


किसी की फूली बॉडी देखकर तुम डरना नहीं,
जो पहलवानों-सा जिगर रखे उससे कभी लड़ना नहीं।
वेद प्रकाश ‘वेदांत’


बड़े बुजुर्गों की बातों का रखते है बड़ा मान,
सुन छोरे – “खुदा मेहरबान तो गधा भी पहलवान।”
अज्ञात


Pahalwan Quotes in Hindi

आज के दौर में जो मुस्कुराता है,
जरूरत पड़ने पर दूसरों के काम आता है,
बिना डरे सच को बताता है,
वह भी एक बड़ा पहलवान है.


वक़्त ही एक कमजोर बच्चे को
पहलवान बनाता है, और वक़्त ही
एक पहलवान को बुढ़ापें में कमजोर
बना देती है. सबसे बड़ा पहवान
तो वक़्त है.


पहलवान तो पहले हुआ करते थे,
कई हार के बाद भी हार नहीं मानते थे,
अब के पहलवान तो एक ही हार में
हार में हार मान जाते है. उदास और
निराश हो जाते है.


पहलवान शायरी

मुझे उसको छुप-छुपकर देखने का शौक आज भी है,
पर मुझे उसके पहलवान भाइयों का खौफ आज भी है.


कुछ लोगो के गुरूर को पानी-पानी करना है,
अब तो गोल्ड मेडल जीतने के लिए पहलवानी करना है.


इसे भी पढ़े –

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button